बुधवार, 17 अप्रैल 2013

Sanjay Pal: Researcher and Link Writer



हर अगला कदम पीछे होता है,और पीछेवाला आगे आता है ..... पिछले कदम की यह अनवरत यात्रा है, स्वाभाविक दृढ़ प्रयास ! हिमालय हो या कैलाश पर्वत ..... ऊँचाई विनम्र होती है,पर नीचे नहीं उतरती - उसे पाने के लिए उसमें रास्ते बना उसपर चढ़ना होता है ... यदि कल को कोई नन्हा सूरज आ जाये आकाश में तो निःसंदेह उसे अपनी पहचान के लिए सदियों से उगते सूरज से सामंजस्य बिठाना होगा,उसके ताप को सहना होगा अपने भीतर ऊर्जा जगाने के लिए . 
शब्दों की यात्रा में,मुखरता के आज में कई लोग मिलते हैं - पर उद्देश्यहीन . उद्देश्य के मार्ग में उम्र क्या और यात्रा की अवधि क्या ! युवा उम्र की गति आशीष लेकर जब चलती है तो मंजिलें उन तक स्वयं बढ़ने को आतुर होती हैं ...... आज ऐसे ही एक युवा से मेरी बातों की मुलाकात हुई FB के मेसेज बॉक्स में ...
रोमन लिपि में बातचीत के क्षणिक अंश -
Rashmi Mam.. Sadar namaskar ... aap se judna chahta hoon plz.. accept my Req..
Kabhi mauka mile to meri wall pe jana .. thoda bahut likhne ki koshis bhi kar raha hoon ... 

===========मैंने जवाब दिया - 
main gayi thi abhi aur padhkar hi request confirm kiya  :) yahi aashirwaad hai aur meri pratikriya

ओह! भूमिका प्रवाह में है और मैंने उभरते स्थापित युवा का नाम बताया ही नहीं .... ये हैं संजय पाल 
और इनके पंखों की उड़ान का दृष्टिगत आकाश है -

My Litraryzone ! Sanjay Pal


13 फरवरी 2013 से इस आकाश की रचना देखकर कौन कह सकता है कि 13 unlucky नम्बर है ......... मेरी प्रतिक्रया तो यही है कि यह उड़ान बड़ी लम्बी होगी . 

आइये इनकी कुछ रचनाओं से भी मिलवाऊँ -

जिंदगी की तमाम
राहों को छोड़कर
हम मिले थे
एक अजनबी मोड़ पर
चाहत जगी ऐसी
बिछडना गंवारा ना हुआ
हम एक दूजे के हुए
पर वक़्त हमारा ना हुआ

हम बढ़ते रहे
एक उमर तक
चाहतों को साथ लेके
एक दूजे के हाथों में
एक दूजे का साथ लेके
हमें मुंह मोड़ना गंवारा ना था
वक़्त ने दोराहे पर छोडा
जाने कैसे यूं ही चलते-चलते

समझ से परे था
समय से भी परे
वक़्त की ठोकर को समझना
एक दूजे को
समझते हुए भी समझ पाना
दर्द हुआ था मुझे
हुआ होगा तुम्हें भी
वक़्त ने मारी थी ठोकर
छुपछुप के रोना गवांरा ना था
हमने हर उस घाव को सहा
जो मेरा था - तुम्हारा था
पर हमारा ना था

कुछ मजबूरियां थी मेरी
रही होगीतुम्हारी भी
पास आना था आ गए
दूर जाने की बेवशी थी
जिसे चाहकर भी
हम मिटा ना सके
प्यार था, मोहब्बत थी
तुम्हें खोने की टीस भी
बस एक दुसरे को पाकर भी पा ना सके ...

===========================

शब्द नहीं थे 
तो हम कितने अकेले थे 
ग़मों का गम नहीं था 
खुशियों का खुमार नहीं था 
दुःख था, दर्द था 
अपनत्व था, प्यार था 
बस इजहार नहीं था 
सनिध्व जुड़ा शब्दों से 
प्यार की नदी बही 
कुछ आंसू उमड़े आंखों से 
दिल के दर्द को भी 
एक दिशा मिली 
यह शब्द ही हैं जो 
जीवन के अकेलेपन से लड़ते हैं 
यह शब्द ही हैं जो 
जीवन के खालीपन को भरते हैं 
अब तो एक रिश्ता सा बन गया है 
इन अनबोलते शब्दों से 
मैं चुप रहता हूं 
और मेरे शब्द बोलते हैं ...

============================

खुद में खुद नहीं 
महज खुद में खुद के 
होने का अहसास था 
जो वक़्त के साथ भरम बनता गया 
कितना अपरिहार्य लगता है ना ?
खुद में खुद के होने 
और नहीं होने का भरम ?
सचमुच कितना कठिन है ?
अपने आपमें 
अपने आपको खोजना ?
स्वय में स्वय को ढूंढना ?

मैंने अक्सर 
खुद ही खुद को छला 
हमेशा दूसरों को कोसा 
कीचड़ उछाला 
और जब मुझे 
मेरी जरुरत थी 
मैं मुझमें था ही नहीं 
फिर मैं आज कैसे कहूँ 
कि मैं – मैं हूं 
और तुम – तुम हो ?
चलो एक बार फिर से खंगालें

स्वय को मनाएं 
मैं – मैं हूं 
तुम – तुम हो 
खुद को विश्वास दिलाएं 
और हम बन जाएं 
प्रेम में भरम अच्छा नहीं 
हम का हम नहीं होना चल जाएगा 
मैं का मैं और 
तुम का तुम होने में दाग धब्बा नहीं .... 

                   इत्तेफ़ाक की बात कहूँ या होनी ........ पर कोई शक्स किसी से यूँ ही नहीं मिलता . 

18 टिप्‍पणियां:

  1. संजय पाल जी की रचनाओं का गांभीर्य अंतस को छू गया..संजय को हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेशक संजय पाल जी एक मंझे हुए लेखक हैं , जो कुछ भी बडी सहजता से कह जाते हैं !...........

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेशक संजय पाल जी एक मंझे हुए लेखक हैं , जो कुछ भी बडी सहजता से कह जाते हैं !...........

    उत्तर देंहटाएं
  4. संजय पाल जी मिलवाने और उनकी भावपूर्ण रचना पढ़वाने के लिए आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेशक संजय पाल जी एक मंझे हुए लेखक हैं , जो कुछ भी बडी सहजता से कह जाते हैं !...........हार्दिक शुभकामनायें.............

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज की ब्लॉग बुलेटिन गूगल पर बनाइये अपनी डिजिटल वसीयत - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. पढ़ती हूँ संजय की रचनाओं को....
    बेहतरीन रचनाकार....

    शुभकामनाएं!!
    आभार आपका .
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीवन की आपाधापी में जीने के लिये कुछ पल का सुकून
    चाहता है हर इंसान--बस इसी सुकून की तलाश ही सृजन है
    संजय पाल की रचनाओं में यही सुकून तलाशा जा रहा है
    बधाई और शुभकामनायें----

    आदरणीया बहिन जी आप तो जौहरी हैं
    पत्थर को भी तराश देंती है
    आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन की आपाधापी में जीने के लिये कुछ पल का सुकून
    चाहता है हर इंसान--बस इसी सुकून की तलाश ही सृजन है
    संजय पाल की रचनाओं में यही सुकून तलाशा जा रहा है
    बधाई और शुभकामनायें----

    आदरणीया बहिन जी आप तो जौहरी हैं
    पत्थर को भी तराश देंती है
    आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया प्रस्तुति | शुभकामनायें |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  11. संजय पाल की कविता में अनिभिती की गहराई है

    उत्तर देंहटाएं
  12. यदि कल को कोई नन्हा सूरज आ जाये आकाश में तो निःसंदेह उसे अपनी पहचान के लिए सदियों से उगते सूरज से सामंजस्य बिठाना होगा,उसके ताप को सहना होगा अपने भीतर ऊर्जा जगाने के लिए
    हमने हर उस घाव को सहा
    जो मेरा था - तुम्हारा था
    पर हमारा ना था
    यह शब्द ही हैं जो
    जीवन के खालीपन को भरते हैं
    अब तो एक रिश्ता सा बन गया है
    खुद में खुद के होने
    और नहीं होने का भरम ?
    सचमुच कितना कठिन है ?
    अपने आपमें
    अपने आपको खोजना ?
    स्वय में स्वय को ढूंढना ?
    कि मैं – मैं हूं
    और तुम – तुम हो ?
    चलो एक बार फिर से खंगालें
    हम का हम नहीं होना चल जाएगा
    मैं का मैं और
    तुम का तुम होने में दाग धब्बा नहीं .।
    एक सूरज के रहते दूसरा सूरज बन ही जाएंगे जब आपका साथ मिल गया है
    अभी तो मुझे सप्त-ऋषि का एक तारा नज़र आया .....।
    लेखनी तो बे-मिसाल है ......।
    बहुत-बहुत शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. इत्तेफ़ाक की बात कहूँ या होनी ........ पर कोई शक्स किसी से यूँ ही नहीं मिलता .... सच तो यही है

    इनके पंखों की उड़ान का दृष्टिगत आकाश ... विस्‍तृत है इसमें कोई संदेह नहीं
    आपकी कलम से इनका परिचय एवं रचनाओं का चयन अच्‍छा लगा ....
    संजय जी के लिये अनंत शुभ कामनाएँ ....आपका आभार

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. संजय जी से मिलवाने का बहुत-बहुत शुक्रिया रश्मिप्रभा जी ! वे बेहद संवेदनशील और परिपक्व इंसान लगते हैं ! उनकी रचनाओं का गाम्भीर्य, ईमानदारी एवँ टीस मन को छू गयी ! सभी रचनाएं एक से बढ़ कर एक हैं ! अच्छा लगा उनसे उनकी रचनाओं के माध्यम से मिलना ! संजय जी के लिये ढेर सारी शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  15. संजय पाल से मिलवाने और उनकी रचनायें पढवाने के लिये हार्दिक आभार । संवेदनशील मन की गतियाँ अबूझ होती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. संजय पाल जी को पहली बार पढ़ा ........अच्छी रचना
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  17. संजय सैफर्ड के नाम से जाने जाते हैं आजकल ...... बेहतरीन शख्सियत :)

    उत्तर देंहटाएं